रेल्वे ने बढ़ाई ओवर लोडिंग पर जुर्माने की दर

PUBLISHED : Apr 05 , 7:43 AMBookmark and Share




डॉ नवीन जोशी

भोपाल।
केंद्रीय रेल्वे बोर्ड ने सीमेंट और फलाई ऐश ढोने वाली वेगनों में ओवर लोडिंग पर जुर्माने की दरें छह साल बढ़ा दी हैं। इसके लिये नियमों में संशोधन भी कर दिया गया है।
उल्लेखनीय है कि सीमेंट और फलाई ऐश को बिना बोरी में डाले लूज में ले जाने के लिये बीसीसीडब्ल्यु वेगनों का इस्तेमाल होता है। इन्हें बोगी कवर्ड वेगन फार सीमेंट एण्ड फ्लाई ऐश कहा जाता है। इसमें सीमेंट फैक्ट्रियों और थर्मल ताप विद्युत गृहों से सीधे सीमेंट व फ्लाई ऐश इन बोगियों में ढोई जाती है। इन बोगियों में नीचे लूज माल निकालने का मेकेनिकल मार्ग भी बना रहता है। इन बोगियों से आने वाले लूज माल की बाद में बोरियों में पैंकिंग होती है। प्राय: सीमेंट फैक्ट्रियां सीमेंट की ताप विद्युत गृह फ्लाई ऐश की इन बोगियों में ओवर लोडिंग कर देते हैं। इस पर रेल्वे बोर्ड जुर्माना वसूलता है।
नवीन प्रावधान के अनुसार, वर्ष 2012 में निर्धारित की गई जुर्माने की दरों में दजाफा किया गया है। अब यदि इन वेगनों में आधे टन तक ओवर लोडिंग है तो उस पर पहले की तरह कोई जुर्माना नहीं लगेगा। यदि ओवर लोडिंग आधे टन से ज्यादा लेकिन साढ़े तीन टन तक है तो उस पर माल भाड़ा की दोगुनी के स्थान पर तीन गुना दर लगेगी। यदि ओवर लोडिंग साढ़े तीन टन से अधिक है तो उस पर जुर्माना उच्चतम श्रेणी पर लगने वाली माल भाड़ा की दर का तीन गुना के स्थान पर पांच गुना लगेगी। ज्ञातव्य है कि बीसीसीडब्ल्यु वेगन में 68 टन माल ही आ सकता है परन्तु सीमेंट फैक्ट्रियां और ताप विद्युत गृह इससे माल इन वेगनों में डाल देती हैं। इसका असर इन वेगनों के आवागमन पर तो पड़ता ही है, साथ ही पटरियों पर भी अनावश्यक भार पड़ता है।
रेल्वे के एक अधिकारी ने बताया कि रेल्वे बोर्ड बीसीसीडब्ल्यु वेंगनों में ओवर लोडिंग पर जुर्माने की दरें रिवाईस करता है। पहले भी उसने जुर्माने की दरें निर्धारित की थीं।

जबलपुर का शेर नागरिक बैंक अब सहकारी बैंक नहीं
भोपाल।
भारतीय रिजर्व बैंक ने अधिसूचना जारी कर कहा कि मप्र के जबलपुर में स्थित शेर नागरिक सहकारी बैंक लिमिटेड बैंककारी विनियमन अधिनियम 1949 के तहत अब सहकारी बैंक नहीं रहा है।

डॉ नवीन जोशी
 

वीडियो

More News