रैनबैक्सी के एक्स-प्रमोटर मलविंदर-शिविंदर सिंह गए 4 दिन की पुलिस हिरासत में

PUBLISHED : Oct 12 , 11:46 AMBookmark and Share



दिल्ली कोर्ट ने आज शुक्रवार को रैनबैक्सी के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर सिंह, मलविंदर सिंह और अन्य तीन को धोखाधड़ी के मामले में 4 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

रैनबैक्सी के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर सिंह को दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) ने गुरुवार को हिरासत में ले लिया था। इसके अलावा रेलिगेयर के पूर्व एमडी सुनील गोधवानी, कवि अरोड़ा और सुनील सक्सेना को हिरासत में लिया। वहीं, शिविंदर सिंह के भाई मलविंदर सिंह को कल देर रात गिरफ्तार किया गया।
इन सभी लोगों पर रेलिगेयर एंटरप्राइज को 2,397 करोड़ रुपए का नुकसान पहुंचाने का आरोप है। एफआईआर में कहा गया है कि इनका रेलिगेयर पर पूरा नियंत्रण था और इन्होंने कंपनी को आर्थिक तौर पर कमजोर किया।

इससे पहले कल रैनबैक्सी के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर सिंह और रात में मलविंदर को दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EOW) ने हिरासत में ले लिया।
दिसंबर 2018 में रेलिगेयर एंटरप्राइज लिमिटेड (REL) की सब्सिडियरी रेलिगेयर फिनफेस्ट (RFL) के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज कराई थी। कंपनी ने यह शिकायत दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग में रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर मलविंदर सिंह और शिविंदर मोहन सिंह के खिलाफ की थी।

उस शिकायत में एक्स सीएमडी सुनील गोधवानी का भी नाम था। इन पर धोखाधड़ी और 740 करोड़ रुपये के फंड्स के गबन की शिकायत की गई थी।

ये शिकायत धोखा, विश्वास का आपराधिक उल्लंघन, जालसाजी, आपराधिक साजिश के तहत रजिस्टर की गई। आरईएल की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि ये शिकायत आंतरिक जांच के बाद फाइल की गई। ये जांच आरएफएल बोर्ड और मैनेजमेंट ने की। आरईएल पर सिंह भाईयों का फरवरी 2018 तक नियंत्रण था। उनके जाने के बाद कंपनी का बोर्ड फिर से गठित किया गया।

वीडियो

More News