कॉरपोरेट टैक्स के बाद इस तरह से आम आदमी को राहत दे सकती है मोदी सरकार

PUBLISHED : Sep 25 , 9:22 AMBookmark and Share


कॉरपोरेट टैक्स के बाद इस तरह से आम आदमी को राहत दे सकती है मोदी सरकार
कॉरपोरेट के लिए बड़ी कर छूट की सौगात के बाद मोदी सरकार अब जल्द ही व्यक्तिगत आयकर के लिए बड़ी राहत का ऐलान कर सकती है, जिसके लिए कर के स्लैब में बड़ा फेर-बदल करने की तैयारी चल रही है। प्रत्यक्ष कर संहिता (डीटीसी) पर कार्यबल की सिफारिशों पर अमल करते हुए कर की दरों में कटौती की जाएगी।

मध्य वर्ग को तत्काल राहत पहुंचाने के लिए सरकार अध्यादेश के माध्यम से दरों में कटौती कर सकती है। इस कदम से नौकरीपेशा वर्ग के लाखों लोगों को फायदा होगा, जिनका वेतन अर्थव्यवस्था में सुस्ती के कारण काफी कम बढ़ा है या बिलकुल नहीं बढ़ा है।

अब PF का ऑनलाइन क्लेम करने के लिए करना होगा ये

सिफारिशों के तहत, पांच लाख रुपये तक की कमाई वालों को आयकर से पूरी तरह छूट दी जा सकती है। फिलहाल यह छूट 2.5 लाख रुपये तक की आय वालों को उपलब्ध है। अभी पांच लाख तक की आय कर मुक्त है लेकिन इससे अधिक होने पर कर की गणना ढाई लाख से होती है।

पांच लाख रुपये से 10 लाख रुपये कमानेवालों के लिए कर की दर घटकर 10 फीसदी की जा सकती है। वहीं, 10 से 20 लाख रुपये सालाना कमाने वालों को 20 फीसदी कर देना होगा। कार्यबल की सिफारिशों में कहा गया है कि 20 लाख रुपये से दो करोड़ रुपये तक की आय पर 30 फीसदी और इससे अधिक आय पर 35 फीसदी आयकर लगाया जाना चाहिए। कार्यबल ने आयकर पर लगाए गए अभिभारों और उपकरों को हटाने का सुझाव दिया है।

टैक्स कनेक्ट के पार्टनर और सह-संस्थापक विवेक जालान का कहना है, “मांग बढ़ाने के लिए जरूरी है कि लोगों के हाथ में ज्यादा पैसा आए। इससे उनकी खरीद की क्षमता बढ़ेगी।” वहीं, पीडब्ल्यूसी इंडिया के वरिष्ठ पार्टनर (टैक्स और रेगुलेटरी) राहुल गर्ग का कहना है, “व्यक्तिगत कर दरों में बदलाव की संभावना नहीं है। आम जनता के लिए पहले ही कर की दरें कम हैं।”

वीडियो

More News