ISRO लॉन्च करेगा नेविगेशन सैटेलाइट IRNSS-1H, उल्टी गिनती शुरू

PUBLISHED : Aug 31 , 9:03 AMBookmark and Share




'नाविक' श्रृंखला के मौजूदा सात उपग्रहों में संवर्धन के लिए नौवहन उपग्रह 'आईआरएनएसएस-1एच' के गुरुवार को होने वाले प्रक्षेपण के लिए 29 घंटे की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी39 के जरिए 'आईआरएनएसएस-1एच' को प्रक्षेपित किया जाएगा।

'आईआरएनएसएस-1एच' नौवहन उपग्रह 'आईआरएनएसएस-1ए' की जगह लेगा, जिसकी तीन रुबीडियम परमाणु घड़ियों (एटॉमिक क्लॉक) ने काम करना बंद कर दिया था। 'आईआरएनएसएस-1ए' 'नाविक' श्रृंखला के सात उपग्रहों में शामिल है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा, पीएसएलवी-सी39/आईआरएनएसएस-1एच के अभियान की 29 घंटे लंबी उल्टी गिनती बुधवार को दोपहर दो बजे शुरू हो चुकी है।

नोटबंदी: रिजर्व बैंक ने कहा,1000 रुपये के 99 फीसदी नोट बैंकों में लौटे

आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के दूसरे लॉन्च पैड से शाम सात बजे इसका प्रक्षेपण किया जाएगा। प्रक्षेपण के लिए पीएसएलवी-सी39 पीएसएलवी के 'एक्सएल' संस्करण का इस्तेमाल करेगा। 1,400 किलोग्राम से ज्यादा वजन के 'आईआरएनएसएस-1एच' का निर्माण इसरो के साथ मिलकर छह छोटी-मझौली कंपनियों ने किया है। भारतीय क्षेत्रीय नौवहन उपग्रह प्रणाली (आईआरएनएसएस) एक स्वतंत्र क्षेत्रीय नौवहन उपग्रह प्रणाली है, जिसे भारत ने अमेरिका के जीपीएस की तर्ज पर विकसित किया है।

वीडियो

More News