इसरो रचेगा इतिहास, आज एक साथ 20 उपग्रहों का होगा प्रक्षेपण

PUBLISHED : Jun 22 , 7:22 AMBookmark and Share



   

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के इतिहास में आज एक और अध्याय जुड़ने वाला है। श्रीहरिकोटा से रिकॉर्ड 20 उपग्रहों के प्रक्षेपण के लिए 48 घंटों की उल्टी गिनती सोमवार को शुरू हो गई। इन उपग्रहों में कोर्टोसैट-दो श्रृंखला का पृथ्वी संबंधी सूचनाएं एकत्र करने वाला भारत का नया उपग्रह शामिल है।

प्रक्षेपण प्राधिकरण बोर्ड (एलएबी) के इस अभियान को मंजूरी देने के बाद सोमवार सुबह नौ बजकर 26 मिनट पर उल्टी गिनती शुरू हो गई।

इसरो ने इससे पहले वर्ष 2008 में 10 उपग्रहों को पृथ्वी की विभिन्न कक्षाओं में एक साथ प्रक्षेपित किया था। इस बार 20 उपग्रहों को एकसाथ प्रक्षेपित करके इसरो नया रिकॉर्ड बनाने के लिए तैयार है। इन उपग्रहों में अमेरिका, जर्मनी, कनाडा और इंडोनेशिया के उपग्रह भी शामिल हैं। इसमें भारतीय विश्वविद्यालयों के दो उपग्रह भी हैं।

इसरो के पीएसएलवी-सी 34 के जरिए 22 जून को आंध्र प्रदेश में यहां से करीब 100 किलोमीटर दूर श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सुबह नौ बजकर 26 मिनट पर उपग्रहों का प्रक्षेपण किया जाएगा।

कोर्टोसैट-2 श्रृंखला का उपग्रह पूर्ववर्ती कोर्टोसैट-2, 2ए और 2बी के समान है। कोर्टोसैट-2 श्रृंखला के उपग्रह को छोड़कर 19 अन्य उपग्रहों का कुल वजन 560 किलोग्राम है। कोर्टोसेट-2 उपग्रह और 19 अन्य उपग्रहों को 505 किलोमीटर की ऊंचाई पर सन सिनक्रोनस ऑर्बिट में स्थापित किया जाएगा। सभी 20 उपग्रहों का वजन करीब 1,288 किलोग्राम है।
 

वीडियो

More News