बारिश से बेहाल एमपी, असम और महाराष्ट्र : कहीं नदियां उफान पर, तो कहीं बाढ़ का तांडव

PUBLISHED : Jul 11 , 8:24 AMBookmark and Share



नई दिल्ली: सूखे और बाढ़ के बाद अब देश के कई हिस्से मॉनसून की बारिश और बाढ़ से बेहाल हैं। सबसे अधिक नुकसान मध्य प्रदेश में हुआ है, जहां बारिश और बाढ़ की वजह से अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है। हांलाकि, पिछले कुछ घंटों में बारिश नहीं होने से हालात में कुछ सुधार हुआ है।

असम : अधिकतर नदियां उफान पर
असम का हाल भी कुछ ऐसा ही है जहां की अधिकतर नदियां उफ़ान पर हैं। राज्य में बाढ़ से अब तक 2 लोगों की मौत हो चुकी है। महाराष्ट्र के कई इलाक़े जो कुछ दिन पहले तक सूखे से बेहाल थे अब बारिश की वजह से होने वाली समस्याओं से परेशान हैं।

महाराष्ट्र : सतारा में 35 गांवों का संपर्क कटा
बात महाराष्ट्र की करें, तो यहां मॉनसून की बारिश ने बाढ़ जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। सतारा के कोयना नदीं पर बना संगमनगर पुल पानी में डूब चुका है, जिसकी वजह से 35 गांवों का संपर्क राज्य के दूसरे हिस्सों से टूट गया है। कई जगहों पर मिट्टी और चट्टान खिसकने से यातायात बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

नासिक : उफान पर गोदावरी नदी
नासिक की बात करें, तो यहां पिछले दो दिन दिनों से हो रही तेज़ बारिश के चलते गोदावरी नदी में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। रामकुण्ड के आस पास कुछ लोग नदी के बहाव में फंस गए, लेकिन उन्हें सुरक्षित निकाल लिया गया। नासिक में एक घर की दीवार गिरने से दो लोग घायल हो गए। वहीं गोदावरी के किनारे खड़ी तीन कारें उसके तेज बहाव में बह गई, लेकिन हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ। पिछले 24 घंटे से हो रही लगातार बरसात से गंगापुर डैम में 23 फीसदी पानी भर गया है। नासिक में गोदावरी के किनारे रहने वाले कई लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने की नसीहत दी गई है।

अकोला और शिरडी में भी भारी बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है। पूर्वी विदर्भ और सूखे से जूझ रहे मराठवाड़ा के भी कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भी इन इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी दी है।

वीडियो

More News