रियो ओलंपिक का रंगारंग समापन, साक्षी मालिक बनीं ध्वजवाहक

PUBLISHED : Aug 22 , 7:54 AMBookmark and Share


   
रियो ओलंपिक का रंगारंग समापन, साक्षी मालिक बनीं ध्वजवाहक
 रियो डी जेनेरियो। रियो ओलंपिक का रंगारंग समापन समारोह हुआ। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के अध्यक्ष थामस बाक ने रियो ओलंपिक खेलों के आधिकारिक समापन की घोषणा की। ओलिंपिक के समापन समारोह में कांस्य पदक विजेता पहलवान साक्षी मलिक भारतीय दल की ध्वजवाहक बनीं। साक्षी ने रियो ओलिंपिक में भारत को पहला पदक दिलाया था, जबकि दूसरा पदक पीवी सिंधु ने दिलाकर भारत का सम्मान बढ़ाया। पीवी सिंधु स्वदेश वापस लौट चुकी थीं और इसी वजह से वो इस इवेंट का हिस्सा नहीं बनीं।
 गौरतलब है की भारत की पदक की अंतिम उम्मीद योगेश्वर दत्त के क्वालीफिकेशन राउंड में मंगोलिया के एम. गेंजोरिग के हाथों हारकर स्पर्धा से बाहर होने के बाद ध्वजवाहक दल में साक्षी के नाम की घोषणा की गई। साक्षी ने महिला कुश्ती के फ्रीस्टाइल 58 किग्रा वर्ग में रेपचेज के जरिए कांस्य पदक जीता था। उनके अलावा पीवी सिंधु ने भारत को महिला बैडमिंटन में रजत पदक दिलाया। भारत के दल प्रमुख राकेश गुप्ता ने कहा कि साक्षी और सिंधु दोनों ने इन खेलों के दौरान जबर्दस्त जज्बा दिखाया। साक्षी ने भारत का खाता खोला और फिर सिंधु ने पदकों की संख्या बढ़ाई। इसबार रियो में 119 खिलाड़ियों का दल भेजा गया था, जिसमें भारत को सिर्फ 2 मेडल मिले। 2 मेडल लेकर भारत ओलंपिक में 67वां स्थान पर रहा।
 31वें रियो ओलंपिक का समापन समारोह बड़े ही शानदार तरीके के साथ हुआ। समापन समारोह ऐतिहासिक मारकाना स्टेडियम में हुआ। कार्यक्रम की शुरुआत बेहतरीन रंग-बिरंगी रोशनी के बीच हुई। कई कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति पेश की और ओलंपिक रिंग्स और क्राइस्ट द रिडीमर का आकार बनाकर स्टेडियम में खूबसूरत नजारा पेश किया।
 अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के अध्यक्ष थामस बाक ने स्थानीय समयानुसार रविवार रात 10.30 बजे (भारतीय समयानुसार सोमवार सुबह 7 बजे) माराकाना स्टेडियम में टोक्यो में 2020 में मिलने के वादे के साथ इन खेलों का समापन किया। टोक्यो को 2020 ओलंपिक की मेजबानी दी गई है और उसने अपने प्रधानमंत्री शिंजो एबे के नेतृत्व में 32वें ओलंपिक खेलों की तैयारियों की अपनी झलक पेश की. बाक ने इस दौरान रियो के मेयर एडवडरे पेस से ओलंपिक झंडा लेकर टोक्यो की मेयर (गवर्नर) यूरीकी कोइके को सौंपा।
 इस मौके पर ब्राजील का नेशनल एंथम 27 बच्चों ने गाया। इसके बाद ओलंपिक में हिस्सा लेने वाले 207 देशों के खिलाड़ियों ने स्टेडियम में मार्च पास्ट करना शुरू किया। इसमें सबसे पहले ओलंपिक खेलों की शुरुआत करने वाला देश ग्रीस था। ब्राजील और जापान का दल एक साथ स्टेडियम में दाखिल हुए, क्योंकि ब्राजील ने इस बार के ओलंपिक की मेजबानी की तो अगले ओलंपिक की मेजबानी जापान करेगा।

वीडियो

More News