चार वर्षों में सभी श्रमिकों को दिए जाएंगे पक्के आवास: मुख्यमंत्री श्री चौहान

PUBLISHED : Mar 28 , 7:16 AMBookmark and Share




मुख्यमंत्री द्वारा पलकमती नदी पर स्टॉप डैम बनाने की घोषणा

 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार ने श्रमिकों के लिये जन्म से लेकर मृत्यु तक साथ देने की महत्वपूर्ण योजनाएं बनाई हैं। गर्भवती श्रमिक महिलाओं को पोषण आहार के लिए 4 हजार रूपए दिए जाएंगे। प्रसव के पश्चात महिला के खाते में 12 हजार 500 रूपए जमा किए जाएंगे। यदि किसी श्रमिक की मृत्यु 60 वर्ष की आयु से पहले होती है, तो उसे 2 लाख रूपए तथा दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख रूपए की सहायता राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज सोहागपुर में आयोजित खण्ड स्तरीय अंत्योदय मेले में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर भूमिहीन श्रमिक को भूखण्ड और आवास दिए जाएंगे। आगामी चार वर्षों में सभी आवासहीन अथवा श्रमिकों को पक्के आवास बनवाकर दिये जाएंगे। श्रमिकों के बच्चों की पहली कक्षा से लेकर पीएचडी करने तक अथवा मेडीकल अथवा इंजीनियरिंग कोर्स में दाखिला लेने पर पढ़ाई की फीस राज्य शासन भरेगा। श्रमिक यदि गंभीर रूप से बीमार हो जाता है, तो उसका उपचार शासकीय अस्पताल के अलावा निजी चिकित्सालय में भी करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि श्रमिक परिवारों से फ्लैट रेट 200 रूपए प्रति माह दर से बिजली के बिल लिए जाएंगे। श्रमिक की मृत्यु पर 5 हजार रूपए की राशि अंतिम संस्कार के लिए दी जाएगी। यह राशि सभी ग्राम पंचायतों में रखी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर गरीब श्रमिक की जिंदगी बदल कर उनके चेहरे पर मुस्कान लाऊँगा, यही मेरी जिंदगी का लक्ष्य है। श्री चौहान ने कहा कि वे हर हाल में अपने लक्ष्य को पूरा करेंगे। श्री चौहान ने कहा कि आने वाले दिनों में गरीबों के हित में सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे। जिन श्रमिकों के पास जमीन नहीं है, उन्हें पट्टे दिए जाएंगे। जो श्रमिक अपने हाथों से कार्य करते हैं, उनका एक अप्रैल से 14 अप्रैल तक पंजीयन किया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्र में ग्राम पंचायतें एवं नगरीय क्षेत्र में नगर पंचायतें श्रमिकों का पंजीयन करेंगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अंत्योदय मेले में पलकमती नदी पर स्टॉप डैम बनवाने की घोषणा की। उन्होंने सेमरीहरचंद पुलिस चौकी का उन्नयन करने एवं कन्या स्कूल खोलने के लिये सर्वे कर उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने उपस्थित अपार जन-समूह को नरवाई नहीं जलाने, बेटा और बेटी को बराबर मानने और गांव के हर बेटा-बेटी को पढ़ने के पूरे अवसर उपलब्ध करवाने का संकल्प दिलाया। श्री चौहान ने कहा कि किसानों के मान-सम्मान पर कोई आंच नहीं आने दी जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पहले सड़कों की हालत अब बेहतर हो गई है। सरकार ने गांव-गांव तक सड़कें बनाई हैं। प्रदेश की सिंचाई की क्षमता को 40 लाख हेक्टेयर तक बढ़ाया गया है। मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा कि वे किसी के भ्रम जाल में न फंसें। किसानों के खातों में प्रति क्विंटल गेहूं के 200 रूपए एवं धान के 200 रूपए 16 अप्रैल को राज्य सरकार द्वारा जमा कराये जाएंगे। किसान यदि समर्थन मूल्य पर अथवा बाहर अपना गेहूं बेचता है, तो उसे किसान समृद्धि प्रोत्साहन योजना के तहत 265 रूपए अतिरिक्त दिए जाएंगे। किसान अगर चना, मसूर, सरसों न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेचता है, तो प्रति क्विंटल 100-100 रूपए किसानों को अतिरिक्त रूप से दिए जाएंगे।

समारोह में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों को सामग्री, उपकरण एवं अनुदान योजनाओं के प्रमाण-पत्र वितरित किए। स्थानीय विधायक श्री विजयपाल सिंह ने शाल, श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर मुख्यमंत्री का सम्मान किया।

अंत्योदय मेले में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा, विधायक श्री सरताज सिंह और श्री ठाकुर दास नागवंशी, अपेक्स बैंक अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री कुशल पटेल, खनिज विकास निगम अध्यक्ष श्री शिव चौबे, वेयर हाउसिंग कॉरपोरेशन अध्यक्ष श्री राजेन्द्र सिंह सहित अन्य जन-प्रतिनिधि भी मौजूद थे।

हितग्राहियों को 55.19 करोड़ के हितलाभ वितरित : मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अंत्योदय मेले में विभिन्न योजनाओं में 13 हजार 349 हितग्राहियों को 55 करोड़ 19 लाख रूपए के हितलाभ वितरित किये। हितलाभ के रूप में अनुदान राशि, सामग्री एवं उपकरण प्रदान किए गए। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर जिले में 722.82 लाख रुपये लागत के 182 निर्माण एवं विकास के कार्यों का लोकार्पण एवं 16472.68 लाख रुपये लागत के 163 कार्यों का भूमि-पूजन किया।

मुकेश मोदी

वीडियो

More News