विद्युत दुर्घटना की सूचना देने की जवाबादारी डाली विद्युत कंपनियों पर....

PUBLISHED : Aug 02 , 8:07 AMBookmark and Share




  डा.नवीन जोशी           
भोपाल।
राज्य शासन ने विद्युत दुर्घटनाओं की सूचना की जानकारी देने की जवाबदारी विद्युत कंपनियों पर डाल दी है। अब विद्युत लाईन के किसी हिस्से में दुर्घटना होने पर विद्युत उत्पादन कंपनी के कनिष्ठ यंत्री को चौबीस घण्टे के अंदर विद्युत निरीक्षक को टेलीफोन या फैक्स के जरिये सूचना देना होगी अन्यथा उस पर कोर्ट  में मुकदमे की कार्यवही की जायेगी।
यह नया व्यवस्था प्रदेश शासन ने मप्र विद्युत कानून 2003 के तहत बनाये ''मप्र विद्युत दुर्घटनाओं की सूचना प्रपत्र तथा नोटिस की तामील नियम 2016ÓÓ के माध्यम से किया है। नवीन प्रावधान में कहा गया है कि यदि विद्युत के उत्पादन, पारेषण, सप्लाय या उपयोग के दौरान विद्युत लाईनों के किसी हिस्से में कोई दुर्घटना होती है और ऐसी दुर्घटना के परिणामस्वरुप मानव या पशु जीवन की हानि होती है या ऐसी हानि होने की संभावना है, तो विद्युत उत्पादन कंपनी का जूनियर इंजीनियर ऐसी घातक दुर्घटना की जानकारी मिलते ही 24 घण्टे के अंदर विद्युत निरीक्षक को फोन या फैक्स के माध्यम से सूचना देगा तथा 48 घण्टे के भीतर लिखित प्रतिवेदन भेजेगा। यदि विद्युत उत्पादन कंपनी को ऐसी दुर्घटना की जानकारी टेलीफोन संदेश या ई-मेल के जरिये मिलती है तो भी उसे यह जानकारी यथाशीघ्र विद्युत निरीक्षक को भेजना होगी।
नये नियमों के तहत अब विद्युत दुर्घटनाओं की सूचना देने के लिये मुख्य विद्युत निरीक्षक, विद्युत निरीक्षक, जिला कलेक्टर, पुलिस थाना, अग्रिशमन केंद्र एवं जनदीकी अस्पताल के फोन नंबर व फैक्स नंबर, उत्पादन केंद्र, स्विचिंग उपकेंद्र में सहजदृश्य स्थान पर प्रदर्शित करने होंगे तथा ये नंबर मध्यम दाब या उच्च दाब या अति उच्च दाब की स्थापनाओं द्वारा भी संधारित किये जायेंगे। विद्युत निरीक्षक के कार्यालय की वेबसाईट पर वे टेलीफोन नंबर, वैकल्पिक नंबर, फैक्स नंबर तथा ई-मेल प्रदर्शित किये जायेंगे जिन पर विद्युत दुर्घटनाओं की सूचना भेजा जाना है।
नये नियमों में यह प्रावधान भी किया गया है कि यदि विद्युत दुर्घटना की सूचना जूनियर इंजीनियर द्वारा नहीं दी जाती है तो विद्युत निरीक्षक विद्युत अधिनियम की धारा 146 के तहत उसके खिलाफ अभियोजन की कार्यवाही करने के लिये सक्षम न्यायालय में आवेदन प्रस्तुत करेगा।

हेल्पलाईन की विसंगतियां
भोपाल।
सीएम हेल्प लाईन में भी विसंगतियां आने लगी हैं। राज्य शिक्षा केंद्र की आयुक्त दीप्ति गौड़ मुखर्जी ने हेल्प लाईन के संचालक को पिछले दिनों पत्र लिखा जिसमें उन्होंने कहा है कि मध्यान्ह भोजन पंचायत विभाग से तथा शिक्षकों की पदस्थापना से संबंधित कार्य लोक शिक्षण संचालनालय का है। इसलिये इनसे संबंधित शिकायतें राज्य शिक्षा केंद्र न भेजी जायें।            डा.नवीन जोशी

वीडियो

More News