काबुलः नॉर्थगेट गेस्ट हाउस पर ट्रक बम से हमला, दो हमलावर ढेर

PUBLISHED : Aug 01 , 8:45 AMBookmark and Share



तालिबान ने काबुल में विदेशियों के लिए बने नॉर्थगेट गेस्ट हाउस पर सोमवार तड़के विस्फोटकों से भरे ट्रक से हमला कर दिया। यह जानकारी अधिकारियों ने दी है। तालिबान ने इस हमले में 100 से अधिक लोगों के मारे जाने का दावा किया है।

अफगान मीडिया के अनुसार, गोलीबारी जारी है। बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों की जवाबी कार्रवाई में कम से कम दो आत्मघाती हमलावरों मारे गए हैं। एक सूत्र ने बताया कि इस हमले में होटल के किसी स्टाफ या मेहमान के मारे जाने की सूचना नहीं है।
इस हमले से कुछ ही दिन पहले अफगान राजधानी में बीते 15 साल का सबसे घातक हमला हुआ था।

हालिया ट्रक हमले में हुए विस्फोट में किसी के हताहत होने की कोई तत्काल खबर नहीं है। विस्फोट की आवाज पूरे शहर में सुनी गई।

सुरक्षा से जुड़े एक सूत्र ने विस्तृत जानकारी दिए बिना एएफपी को बताया, विस्फोटकों से भरे एक ट्रक से नॉर्थगेट गेस्ट हाउस के प्रवेश द्वार पर हमला किया गया।

नॉर्थगेट उत्तर काबुल में अमेरिका द्वारा संचालित बगराम एयरबेस के पास स्थित है और यहां विदेशी कॉन्ट्रैक्टर रहते हैं। इस परिसर की सुरक्षा के लिए यहां विस्फोट रोधी दीवारें और निगरानी वाले टावर लगे हैं।

सुरक्षा अधिकारियों से घिरे गेस्ट हाउस में टेलीफोन के जरिए तत्काल संपर्क नहीं हो पाया।

तालिबान ने कहा कि अमेरिकी घुसपैठियों के गेस्ट हाउस पर ट्रक बम हमले के जरिए उसके लड़ाकों को रॉकेट चालित ग्रेनेड और छोटे हथियार लेकर इस प्रतिष्ठान में घुसने का मौका मिल गया।

100 से ज्यादा लोगों के मारे जाने का दावा
तालिबान ने दावा किया कि हमले में 100 से ज्यादा लोग मारे गए हैं और घायल हुए हैं। तालिबान को युद्धक्षेत्र से जुड़े दावों को बढ़ा चढ़ाकर पेश करने के लिए जाना जाता है।

रमजान के दौरान थोड़ी शांति के बाद तालिबान ने अपने हमले तेज कर दिए हैं। यह हमला उसी की एक कड़ी है।

इससे पहले 23 जुलाई को अफगान राजधानी में दो बम विस्फोट हुए थे। उस घातक हमले में 80 लोग मारे गए थे। 23 जुलाई का यह हमला वर्ष 2001 में तालिबान को सत्ता से हटाए जाने के बाद किया गया सबसे घातक हमला था।

ये बम विस्फोट अल्पसंख्यक शिया हजारा प्रदर्शनकारियों की भीड़ पर किया गया था। ये लोग मध्य प्रांत बामियान में बिजली की बड़ी लाइन की मांग करने के लिए जुटे थे। यह इलाका अफगानिस्तान के सबसे बदहाल इलाकों में से एक है।

इन बम विस्फोटों की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी। आईएस धीरे-धीरे अफगानिस्तान में अपनी पैठ बना रहा है और तालिबान को उसी की धरती पर चुनौती दे रहा है।

अमेरिकी हवाई हमलों की मदद से अफगान बलों ने आईएस जिहादियों के पूर्वी गढ़ नांगरहार में हमले तेज किए हैं।

वीडियो

More News