मध्यप्रदेश में थर्ड जेण्डर(किन्नरों) पर होगा अध्ययन

PUBLISHED : Jan 25 , 9:09 AMBookmark and Share




बजट हेड खुला, अटल सुशासन संस्थान करेगा  अध्ययन

शिक्षा एवं रोजगार होगी पहली प्राथमिकता

डॉ. नवीन जोशी

भोपाल।प्रदेश में जल्द ही थर्ड जेण्डर यानि किन्नरों की सामाजिक एवं शैक्षणिक स्थिति का अध्ययन होगा। यह अध्ययन राजधानी में स्थित अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान करेगा। इस अध्ययन में थर्ड जेण्डर की शिक्षा एवं रोजगार पर विशेष ध्यान देगा। इस संबंध में बजट हेड खुल गया है।
सामाजिक न्याय विभाग ने अपने यहां यह बजट हेड खोला है जिसे ट्रांसजेण्डर का कल्याण एवं पुनर्वास नाम दिया गया है। यह बजट हेड वित्त विभाग ने स्वीकृत कर हाल में विधानसभा में पारित पहले पूरक बजट में उल्लेखित किया है। इस बजट हेड में राशि की व्यवस्था सामाजिक न्याय विभाग अपनी अन्य योजनाओं से बचने वाली राशि में से करेगा।

करीब 23 हजार हैं थर्ड जेण्डर
 :
प्रदेश में इस समय थर्ड जेण्डर की जनसंख्या करीब 23 हजार है। इनमें शिक्षा एवं रोजगार की कारगर व्यवस्था न होने से ये सामाजिक रुप से उपेक्षित रहते हैं और नाच-गाने का व्यवसाय करते हैं। इनके बारे में आम लोगों की धारणायें भी गलत होती हैं।
अध्ययन की स्वीकृति मिल चुकी है :
थर्ड जेण्डर का अध्ययन करने की अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान ने स्वीकृति दे दी है तथा इसके लिये करीब आठ लाख रुपये मांगे हैं। सामाजिक न्याय विभाग बजट हेड खुलने से अब इस राशि की व्यवस्था कर रहा है।

मिल सकता है आरक्षण :

उक्त अध्ययन के आधार पर प्रदेश में थर्ड जेण्डर को सरकारी नौकरियों में आरक्षण भी मिल सकता है। यह आरक्षण एक या डेढ़ प्रतिशत हो सकेगा। चूंकि प्रदेश में इनकी संख्या कम है और इन्हें समाज की मुख्य धारा में लाना है, इसलिये ऐसा आरक्षण देने में कोई परेशानी भी नहीं जायेगी।
विभागीय अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में ट्रांसजेण्डर के कल्याण एवं पुनर्वास हेतु बजट हेड खुल गया है जिसमें हम राशि की व्यवस्था कर रहे हैं। पहले इनका सुशासन संस्थान से अध्ययन कराया जा रहा है तथा उसकी अनुशंसा पर विभाग आगे कदम उठायेगा। पहला फोकस इस वर्ग के लोगों की शिक्षा एवं रोजगार पर है।


जलसंसाधन विभाग के पांच अधिकारियों के तबादले

भोपाल।राज्य शासन ने जल संसाधन विभाग के पांच अधिकारियों के तबादला आदेश जारी किये। जारी आदेश के अनुसार, कार्यपालन यंत्री धार प्रवीण कुमार खरत को झाबुआ, प्रभारी कार्यपालन यंत्री रुपांकन गंगा कछार रीवा अजय कुमार वर्मा को प्रभारी कार्यपालन यंत्री धार, प्रभारी कार्यपालन यंत्री बाणससागर पक्का बांध देवलोंद शहडोल अरुणेन्द्रनाथ शर्मा को प्रभारी कार्यपालन यंत्री गंगा कछार रीवा, प्रभारी कार्यपालन यंत्री रुपांकन गंगा कछार रीवा हरीश तिवारी को प्रभारी कार्यपालन यंत्री बाणसागर पक्का बांध देवलोंद शहडोल तथा प्रभारी कार्यपालन यंत्री झाबुआ पीसी साकला को प्रभारी कार्यपालन यंत्री रुपांकन नर्मदा ताप्ती कछार इंदौर पदस्थ किया है।

भिण्ड जिले की लहार नगर परिषद बनी नगर पालिका

भोपाल।राज्य शासन ने भिण्ड जिले की लहार नगर परिषद का उन्नयन कर उसे नगर पालिका बना दिया है। इस संबंध में नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है। यह कार्यवाही मप्र नगरपालिका अधिनियम 1961 की धारा 5 के प्रावधानों के तहत की गई है।
डॉ. नवीन जोशी

वीडियो

More News