शिवराज ने मानी मेनका की बात : अब स्कूलों में मिलेगा अण्डा

PUBLISHED : Jul 03 , 8:25 AMBookmark and Share



डॉ नवीन जोशी

भोपाल।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी की बात मान ली है तथा राज्य के सभी स्कूलों की कैंटीन में अण्डे को बेचने की अनुमति दे दी है। ज्ञातव्य है कि इससे पहले आंगनवाडिय़ों में पोषण आहार के रुप में बच्चों को अण्डा देने की कवायद हुई थी परन्तु इससे सरकार ने इंकार कर दिया था।
केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को आधिकारिक पत्र लिख कर कहा था कि बच्चों में मोटापे की बढ़ती हुई समस्या को देखते हुये देश के स्कूलों में अत्यधिक मात्रा में वसा, नमक तथा शक्कर युक्त भोज्य पदार्थों के उपयोग को रोकने तथा शालाओं में स्वास्थ्यकारक भोज्य पदार्थों के उपयोग को बढ़ाने की दृष्टि से एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया था। समिति द्वारा बच्चों एवं प्रौढ़ों में उक्त प्रकार के जंक फूड जैसे पोटेटो चिप्स, कार्बोनेटड कोल्ड ड्रिंक्स, नूडल्स, पिज्जा, बर्गर, टिकिया, चॉकलेट, चुईंगम, जलेबी, इमरती, गुलाब जामुन आदि के उपयोग को प्रतिबंधित करने हेतु सिफारिशें की हैं। विभिन्न अध्ययनों में देश के स्कूलों में जाने वाले बच्चों में बढ़ता हुआ वजन तथा मोटापा अनेक बीमारियां पैदा करता पाया गया है। उन्होंने स्कूल कैंटीन में अण्डा भी भोज्य पदार्थ के रुप में उपलब्ध कराने का आग्रह किया। इस पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वीकृति दे दी जिस पर उनके सचिव विवेक अग्रवाल ने स्कूल शिक्षा विभाग को नोटशीट भेजकर मेनका गांधी के निर्देशानुसार कार्यवाही करने के लिये कहा। अब स्कूल शिक्षा विभाग ने आयुक्त लोक शिक्षण एवं आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र को राज्य के स्कूलों में मोटापा बढ़ाने वाली वस्तुओं को प्रतिबंधित करने एवं अण्डा सहित अन्य भोज्य पदार्थ उपलब्ध कराने के लिये शासकीय हिदायत जारी कर दी है।
अब कैंटीनों में यह उपलब्ध रहेगा :
अण्डा, रोटी,,पराठा, ऋतु अनुकूल सब्जियां, चावल, दाल, पुलाव, काले चना वाला हलवा, मीठी-नमकीन दलिया, सफेद चना, राजमा, कड़ी, आटे का उपमा, खिचड़ी, टमाटर, इडली-बड़ा सांभर, खीर, दूध, दही, लस्सी, नारियल पानी, शिकंजी तथा जलजीरा।
इन भोज्य पदार्थों पर लगाई रोक :
चिप्स, फ्राईड फूड्स, शर्बत, बर्फ का गोला, कार्बोनाईज्ड कोल्ड ड्रिंक्स, रसगुल्ला, गुलाब जामुन, पेड़ा, कलांकद, नूडल्स, पिज्जा, बर्गर, टिक्का, चुईंगम, कैंडीज, जलेबी, इमरती, बुंदी, प्लेन एण्ड डार्क चाकलेट्स, कन्फेक्शनरी,
केक्स एण्ड बिस्कुट्स, बन एण्ड पेस्ट्रीज, जेम एण्ड जेली।
इनका कहना है :
''स्कूल कैंटीनों में अण्डा उपलब्ध कराने के संबंध में केंद्र के निर्देश राज्य सरकार से आये हैं। इस संबंध में हम अलग से स्कूलों को डायरेक्टिव्स जारी करेंगे।ÓÓ
- दीप्ति गौड़ मुकर्जी, आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र

भाप्रसे व राप्रसे अफसरों का बना सेवा इतिहास
भोपाल।
राज्य सरकार ने भारतीय प्रशासनिक सेवा एवं राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों का पहली बार सेवा इतिहास तैयार किया है। इस सेवा इतिहास में प्रत्येक अधिकारी की जन्म तिथि, पहली पदस्थापना, किन-किन जगहों पर वे पदस्थ रहे, वर्तमान पदस्थापना आदि सभी जानकारियां मिल जायेंगी। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा पहली बार तैयार किये गये इस सेवा इतिहास के अंतर्गत भाप्रसे के अधिकारियों की 1 मई,2016 की स्थिति में तथा राप्रसे अधिकारियों की 1 जून,2016 की स्थिति में सभी जानकारियां दी गई हैं।
डॉ नवीन जोशी

वीडियो

More News