'मंदिर-मस्जिद में लाउडस्पीकर क्‍यों, क्‍या भगवान बहरा है'

PUBLISHED : Dec 14 , 7:55 AMBookmark and Share


'मंदिर-मस्जिद में लाउडस्पीकर क्‍यों, क्‍या भगवान बहरा है'

मध्य प्रदेश के उज्जैन में उस्ताद अमजद अली ख़ान अपने पूरे परिवार के साथ बैठे दिखे. वो यहां मौनी बाबा की जयंती पर हुए कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे, जहां उन्होंने मन्दिर-मस्जिद में लाउडस्पीकर लगाने पर सवाल उठा दिया.

उन्होंने लोगों से पूछा कि मंदिर-मस्जिद पर लाउडस्पीकर क्यों लगाए जाते हैं, ‘क्या हमारा भगवान बहरा है.’ इस कार्यक्रम में उस्ताद अमजद अली ख़ान अपने दोनों बेटों के साथ पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने मंच पर सरोद भी बजाया.
 इसके बाद मीडिया से बातचीत में उन्होंने मन्दिर-मस्जिद में लाउडस्पीकर लगाने को ग़ैर-ज़रूरी बताया. उस्ताद अमजद अली ख़ान ने कहा, ‘क्या भगवान दिल की मन की आवाज नहीं सुन सकता?’
 उस्ताद अमजद अली ख़ान से पहले गायक सोनू निगम ने भी मन्दिर-मस्जिद पर लाउडस्पीकर लगाए जाने पर सवाल उठाया था, जिस पर काफी विवाद भी हुआ था.
सौ बात की एक बात ये कि मन्दिर, मस्जिद में लाउड स्पीकर लगाए जाने को लेकर विवाद काफी लंबे अरसे से चला आ रहा है. ऐसे में उस्ताद अमजद अली ख़ान ने लाउड स्पीकर को ग़ैर ज़रूरी बताकर एक नई बहस छेड़ दी है.

उस्ताद अमजद अली खान ने कहा कि दुनिया में हॉस्पिटल बनने की जरुरत ज्यादा है पूजा पाठ तो घर में भी कर सकते हैं. हमारा भगवान् बहरा है क्या जो हर धार्मिक बिल्डिंग में लाउड-स्पीकर लगे हैं, भगवान दिल की आवाज सुन नहीं सकता क्या?

वीडियो

More News