63हजार बच्चे अकाल मौत मरे...

PUBLISHED : Dec 03 , 9:17 AMBookmark and Share



सरकार की लचर स्वास्थ्य सेवाओं का परिणाम
डॉ. नवीन जोशी
भोपाल।भले ही मध्य प्रदेश सरकार लचर स्वास्थ्य सेवाओं पर अरबों रुपये खर्च करती है लेकिन जमीन हकीकत कुछ और कहते नजर आती है।प्रदेश में गुणवत्ताहीन स्वास्थ्य सेवाओं के चलते अब तक 63हजार से ज्यादा बच्चों की अकाल मृत्यु हुई है।ये जानकारी विधानसभा में पूछे गए एक सवाल की जानकारी में सामने आई है।
 प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह भले ही 12 साल बेमिसाल का नारा लगाते नही थक रहें हो लेकिन मामा के राज में लाडले ओर लाडलियाँ अकाल मौत मारने को मजबूर हैं।जी हां गुणवत्ता पूर्ण स्वास्थ्य सेवाओ टीकाकरण ओर संक्रमण से बचाव की पर्याप्त सुविद्या न होने के चलते अब तक  प्रदेश के 63107 बच्चों की अकाल मृत्यु हो चुकी है।ये जानकारी बीजेपी के पूर्व मुख्यमंत्री और विधायक बाबूलाल ग़ोइर के संवाल के जवाब में निकल कर आई है।

..वैसे भी भारत में सरकारी लापरवाही ओर लचर स्वास्थ्य सेवाओं के चलते भारत में हर साल 11.5 लाख बच्चे 5 साल की उम्र पूरी करने से पहले ही गाल के गाल में समा जाते हैं।यूनिसेफ की रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में भारत में शिशु मृत्यु दर 58 फीसदी है।


महिला एवं बाल विकास विभाग के मुताबिक प्रदेश में

0 से 5 साल के 70 लाख बच्चों में 12 लाख बच्चे काम वजन के।


- डेढ़ लाख बच्चे बेहद कम वजन के।


-1 जनवरी 16 से 1 जनवरी 17 तक 0 से 5 साल के

28498 बच्चों की विभिन्न कारणों से मौत।


- 6 से 12 साल के बच्चों की उम्र की 472 बच्चों की मौत।


- कुपोषण के मामले में भोपाल जिला नम्बर 1 पिछले एक साल में 5 साल से कम उम्र के 1704 बच्चो की मौत।

दरअसल बच्चों के अकाल मृत्यु की बड़ी वजह भ्रस्टाचार भी है जिसके चलते प्रदेश के 75 लाख बैसीजे ओर 7.99 लाख गर्भवती महिलाएं पोषक आहार से वंचित रह गए।जाहिर है ऐसे में 63 हजार लाडलों की अकाल मौत की वजह साफ समझी जा सकती है।कोंग्रेस भी इन अकाल मौतों की वजह सरकार को बता रही है।
-चाहे महिला अपराध की बात हो या किसानों के मौत की या फिर कुपोषण की मध्य प्रदेश देश में नंबर 1 है। ऐसे में 63 हजार बच्चो की अकाल मृत्यु शिवराज सरकार पर सवालिया निशान लगाती नजर आती है।
डॉ. नवीन जोशी

वीडियो

More News