भारत को 7 विकेट से हराकर वेस्टइंडीज फाइनल में

PUBLISHED : Apr 01 , 8:12 AMBookmark and Share



मुंबई। वेस्टइंडीज ने आखिर करोड़ों भारतीयों के सपनों को तोड़ दिया। कैरेबियाई टीम ने लैंडल सिमंस  (नाबाद 83) और आंद्रे रसेल (नाबाद 43) की जबरदस्त तूफानी पारियों से मेजबान भारत के सपनों को  सात विकेट से चकनाचूर करते हुए गुरुवार को आईसीसी ट्वेंटी-20 विश्वकप के खिताबी मुकाबले में  प्रवेश कर लिया, जहां उसका 3 अप्रैल को इंग्लैंड से कोलकाता के ईडन गार्डन में मुकाबला होगा।
 भारत ने करिश्माई बल्लेबाज विराट कोहली की नाबाद 89 रन की शानदार पारी से 2 विकेट पर 192  रन का मजबूत स्कोर बनाया, लेकिन सिमंस और रसेल के प्रहारों से वेस्टइंडीज ने 19.4 ओवर में तीन  विकेट पर 196 रन बनाकर जबरदस्त जीत हासिल की। वेस्टइंडीज की टीम दूसरी बार विश्वकप के फाइनल में पहुंची है।
 
 
सिमंस ने तीन जीवनदान का भरपूर फायदा उठाते हुए 51 गेंदों पर नाबाद 83 रन की मैच विजयी  पारी से सात चौके और पांच छक्के मारे। रसेल ने भी उनका भरपूर साथ दिया और 20 गेंदों पर  नाबाद 43 रन में तीन चौके और चार छक्के उड़ाए। इन दोनों बल्लेबाजों ने वेस्टइंडीज को 3 विकेट  पर 116 रन की स्थिति से उबारते हुए फाइनल में पहुंचा दिया। वेस्टइंडीज ने आखिरी पांच ओवर में  66 रन बटोरकर भारत की उम्मीदों को तोड़ दिया।
 
वेस्टइंडीज की इस तरह पुरुष और महिला दोनों ही टीमें विश्वकप फाइनल में पहुंच गई हैं। वेस्टइंडीज की महिला टीम ईडन गार्डन में 3 अप्रैल को ऑस्ट्रेलिया से टक्कर लेगी और उसी दिन  शाम को वेस्टइंडीज की पुरुष टीम इंग्लैंड से लोहा लेगी।
 
भारतीय गेंदबाजों ने शुरुआती उम्मीदें जगाने के बाद खासा निराश किया। क्रिस गेल  मात्र 5 रन बनाकर जसप्रीत बुमराह की गेंद पर बोल्ड हो गए जबकि मार्लोन सैम्युअल्स (8) ने  आशीष नेहरा की गेंद पर अजिंक्य रहाणे को कैच थमा दिया, लेकिन इसके बाद जॉनसन चार्ल्स (52)  और सिमंस ने तीसरे विकेट के लिए 10.1 ओवर में 97 रन जोड़ डाले।

चार्ल्स 36 गेंदों में सात चौकों  और दो छक्कों की मदद से 52 रन बनाकर विराट कोहली का शिकार बने। सिमंस ने इसके बाद रसेल के साथ चौथे विकेट के लिए मात्र 6.3 ओवर में 80 रन की  अविजित साझेदारी कर भारत से मैच छीन लिया। सिमंस को अपनी पारी के दौरान तीन जीवनदान  मिले। दो बार उनका कैच नो बॉल पर लपका गया जबकि तीसरी बार कैच लपकते समय फील्डर का  पैर सीमा रेखा से छू गया। इन जीवनदान ने भारत के हाथ से मैच टपका दिया।
 
भारतीय गेंदबाजों ने निर्णायक मौकों पर खासा निराश किया और सिमंस तथा रसेल को बड़े शॉट  खेलने वाली गेंदें फेंक डालीं। दोनों ने कुल 10 चौके और नौ छक्के उड़ाए। वेस्टइंडीज की पारी में कुल  20 चौके और 11 छक्के लगे। जसप्रीत बुमराह ने चार ओवर में 42 रन, हार्दिक पांड्या ने चार ओवर  में 43 रन और रवींद्र जडेजा ने चार ओवर में 48 रन लुटाए।
 
आशीष नेहरा चार ओवर में 24 रन पर एक विकेट लेकर बेहतर साबित हुए। रविचंद्रन अश्विन को दो ओवर मिले जिसमें उन्होंने 20 रन दिए। विराट कोहली ने 1.4 ओवर में 15 रन पर  एक विकेट लिया।  वेस्टइंडीज को आखिरी ओवर में जीत के लिए 8 रन चाहिये थे और कप्तान धोनी ने कोई चारा न देखकर विराट को गेंद थमाई। रसेल ने विराट की तीसरी गेंद पर चौका और  चौथी गेंद पर छक्का मारकर मैच समाप्त कर दिया। सिमंस को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। सिमंस को चोटिल आंद्रे फ्लेचर के  लिये अफगानिस्तान मैच के बाद बुलाया गया था और उन्होंने शानदार पारी खेली। अंतिम पांच  ओवरों में भारतीय गेंदबाजों ने हर ओवर में लगभग छक्का और चौका खाया और यही उसकी हार का  सबसे बड़ा कारण रहा।
 
इससे पहले विराट की नाबाद 89 रन की एक और पराक्रमी पारी की बदौलत भारत ने दो विकेट पर  192 रन का मजबूत स्कोर तो बनाया लेकिन गेंदबाज उसका बचाव नहीं कर सके। विराट ने  ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी ग्रुप मैच में नाबाद 82 रन की मैच विजयी पारी खेली थी और  वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने उसी अंदाज में खेलते हुए मात्र 47 गेंदों पर 11 चौके और एक छक्का  उड़ाकर नाबाद 89  रन ठोक डाले। वे मात्र एक रन से 90 रन के अपने सर्वश्रेष्ठ स्कोर से पीछे रह  गए।

वीडियो

More News