IPL: सनराइजर्स बना आईपीएल चैंपियन

PUBLISHED : May 30 , 7:01 AMBookmark and Share



   

बेन कटिंग के आलराउंड खेल और गेंदबाजों की सही समय पर दिलायी गई शानदार वापसी से सनराइजर्स हैदराबाद ने क्रिस गेल के तूफान के सामने कुछ विषल पलों से गुजरने के बावजूद यहां बड़े स्कोर वाले फाइनल में सनराइजर्स हैदराबाद को आठ रन से हराकर पहली बार आईपीएल चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

सनराइजर्स ने खेल के हर क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन किया लेकिन फिर से उसके गेंदबाजों का प्रदर्शन निर्णायक साबित हुआ क्योंकि एक समय गेल के 38 गेंदों पर चार चौकों और आठ छक्कों की मदद से बनाए गए 76 रन और कोहली (54) के एक और अर्धशतक से आरसीबी तेजी से जीत की तरफ बढ़ रहा था। आरसीबी का स्कोर 13वें ओवर में एक समय एक विकेट पर 140 रन था लेकिन इसके बाद सनराइजर्स के गेंदबाजों ने शिकंजा कसा और आखिर में कोहली की टीम को सात विकेट पर 200 रन तक ही पहुंचने दिया।

इससे पहले सनराइजर्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए डेविड वार्नर, कटिंग और युवराज सिंह के प्रयासों से सात विकेट पर 208 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया था। कप्तान वार्नर ने 38 गेंदों पर आठ चौकों और तीन छक्कों की मदद से 69 रन बनाए। कटिंग ने 15 गेंदों पर नाबाद 39 रन बनाये जिसमें तीन चौके और चार छक्के शामिल हैं। युवराज ने 23 गेंदों पर 38 रन की दमदार पारी खेली।

सनराइजर्स पहली ऐसी टीम बन गई है जिसने लगातान तीन प्लेऑफ जीतकर खिताब अपने नाम किया। उसने एलिमिनिटेर में कोलकाता नाइटराइडर्स और फिर दूसरे क्वालीफायर में गुजरात लायन्स को हराया था।

सनराइजर्स के गेंदबाजों की तारीफ करनी होगी। टूर्नामेंट में सर्वाधिक 23 विकेट लेने वाले भुवनेश्वर कुमार को आज भले ही कोई विकेट नहीं मिला लेकिन उनकी 13 गेंदों पर रन नहीं बने। उन्होंने चार ओवर में केवल 25 रन दिए। कटिंग ने 25 रन देकर दो विकेट लिए।

गेल ने हालांकि एक समय सनराइजर्स के खेमे में चिंता की लहर दौड़ा दी थी। वेस्टइंडीज के इस विस्फोटक बल्लेबाज ने फाइनल से पहले नौ पारियों में 151 रन बनाये थे लेकिन आज उन्होंने शुरू में ताबड़तोड़ रन जुटाकर टीम पर से दबाव हटा दिया। पहले विकेट के लिये 114 रन की साक्षेदारी निभायी गयी जिसमें कोहली का योगदान 32 रन था।

गेल ने बरिंदर सरां को शुरू में निशाने पर रखा और इस तेज गेंदबाज के पहले दो ओवरों में तीन गगनदायी छक्के लगाये। कटिंग का स्वागत उन्होंने छक्के और चौके से किया और जब मोएजेस हेनरिक्स ने गेंद थामी तो लांग आन पर सीधा छक्का जड़कर 25 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया। हेनरिक्स के अगले ओवर में उन्होंने लगातार दो चौके और छक्के जड़कर उनके हताश कर दिया। आखिर में कटिंग की गेंद पर उन्होंने थर्डमैन पर हवा में लहराता कैच थमाया।

कोहली ने रणनीतिक बल्लेबाजी। उन्होंने वार्नर के तुरूप के इक्के मुस्तफिजुर रहमान को निशाना बनाया जिससे सनराइजर्स की टीम पर दबाव बनना स्वाभाविक था। आरसीबी कप्तान ने सरां पर छक्के से अपना अर्धशतक पूरा किया लेकिन इसी ओवर में उनकी गिल्लियां बिखर गयी जिससे उनका एक सत्र में 1000 रन पूरे करने का सपना अधूरा रह गया। कोहली ने 16 मैचों में 973 रन बनाये।

बिपुल शर्मा ने अगले ओवर में एबी डिविलियर्स (5) को आउट करके सनराइजर्स की कुछ उम्मीदें जगायी। केएल राहुल (11) भी नहीं चल पाए। कटिंग ने उनका आफ स्टंप थर्राया। उम्मीद थी कि वाटसन गेंदबाजी की अपनी कमी की यहां भरपायी करेंगे लेकिन वह भी 11 रन बनाकर पवेलियन लौट गये।

स्टुअर्ट बिन्नी (9) ने मुस्तफिजुर के इस ओवर में छक्का जड़कर आरसीबी खेमे में कुछ जोश भरा लेकिन आखिरी दो ओवर में 30 रन बनाना आसान नहीं था। ऐसे में बिन्नी रन आउट हो गये। सचिन बेबी ने मुस्तफिजुर की गेंद छह रन के लिये भेजी जिससे अंतिम ओवर में 18 रन का लक्ष्य रह गया था और भुवनेश्वर ने नौ रन देकर अपनी टीम को जीत दिलायी।

इससे पहले सनराइजर्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए डेविड वार्नर, कटिंग और युवराज सिंह के प्रयासों से सात विकेट पर 208 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया था। कप्तान वार्नर ने 38 गेंदों पर आठ चौकों और तीन छक्कों की मदद से 69 रन बनाए। कटिंग ने 15 गेंदों पर नाबाद 39 रन बनाये जिसमें तीन चौके और चार छक्के शामिल हैं। युवराज ने 23 गेंदों पर 38 रन की दमदार पारी खेली।

सनराइजर्स पहली ऐसी टीम बन गई है जिसने लगातान तीन प्लेऑफ जीतकर खिताब अपने नाम किया। उसने एलिमिनिटेर में कोलकाता नाइटराइडर्स और फिर दूसरे क्वालीफायर में गुजरात लायन्स को हराया था।

सनराइजर्स के गेंदबाजों की तारीफ करनी होगी। टूर्नामेंट में सर्वाधिक 23 विकेट लेने वाले भुवनेश्वर कुमार को आज भले ही कोई विकेट नहीं मिला लेकिन उनकी 13 गेंदों पर रन नहीं बने। उन्होंने चार ओवर में केवल 25 रन दिए। कटिंग ने 25 रन देकर दो विकेट लिए।

इससे पहले कप्तान डेविड वार्नर के एक और जबर्दस्त अर्धशतक और बेन कटिंग की आखिरी ओवरों में खेली गई 15 गेंदों पर नाबाद 39 रन की ताबड़तोड़ पारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने सात विकेट पर 208 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया।
 
वार्नर ने 38 गेंदों पर आठ चौकों और तीन छक्कों की मदद से 69 रन बनाए। कटिंग ने अपनी नाबाद पारी में तीन चौके और चार छक्के लगाए। इनमें शेन वाटसन के आखिरी ओवर लगाये गये तीन छक्के भी शामिल हैं, जिससे टीम 200 रन के पार पहुंची। इनके अलावा युवराज सिंह ने 23 गेंदों पर 38 रन की दमदार पारी खेली। आरसीबी की तरफ से क्रिस जोर्डन ने 45 रन देकर तीन जबकि एस अरविंद ने 30 रन देकर दो विकेट लिये।

वार्नर ने अपने गेंदबाजों पर पूरा भरोसा जताकर टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और फिर अपनी शानदार फार्म जारी रखकर आरसीबी के गेंदबाजों के धुर्रे उड़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने शुरू से ही रन बनाने का जिम्मा उठाया और शिखर धवन (25 गेंदों पर 28 रन) के साथ पहले विकेट के लिए 40 गेंदों पर 63 रन की साक्षेदारी करके ठोस शुरुआत दी।

विराट कोहली ने शुरू में ही दूसरे छोर से क्रिस गेल को गेंदबाजी सौंप दी और उन्होंने अपनी ऑफ स्पिन से पहले दो ओवर काफी किफायती किए। पहले चार ओवर के बाद स्कोर 27 रन था। वार्नर ने पहले बदलाव के रूप में आये वाटसन की पहली गेंद ही कवर के उपर से छक्के लिये भेजी। धवन ने भी इस ओवर में मिडआफ पर छक्का लगाया। गेल जब अपना तीसरा ओवर करने के लिये तो वार्नर ने लांग आन पर खूबसूरत छक्का जड़ा। कोहली ने इन दोनों गेंदबाजों को तुरंत ही आक्रमण से हटा दिया।

वाटसन की जगह गेंद संभालने वाले यजुवेंद्र चहल ने अपनी चौथी गेंद पर ही धवन को डीप स्क्वायर लेग पर कैच करवाकर आरसीबी को पहली सफलता दिलायी। मोएजेस हेनरिक्स (चार) ने भी जोर्डन की गेंद पर हवा में लहराता कैच दिया। इस बीच वार्नर ने अपने तेवरों को ढीला नहीं पड़ने दिया और केवल 24 गेंदों पर अर्धशतक पूरा किया। उन्हें बीच में जीवनदान भी मिला लेकिन अरविंद की गेंद पर जल्द ही थर्डमैन पर कैच थमा बैठे। उन्होंने आईपीएल नौ में कुल 848 रन बनाए।

अब दारोमदार युवराज पर था जिन्होंने शुरू में कुछ गेंदों को परखा और फिर जोर्डन पर बैकवर्ड स्क्वायर लेग पर छक्का जमाकर अपने प्रशंसकों को रोमांचित किया। उन्होंने वार्नर के आउट होने के बाद चहल की भी लगातार गेंदों को छक्के और चौके लिए भेजा। चहल ने 35 रन देकर एक विकेट लिया और टूर्नामेंट में कुल 21 विकेट हासिल किए।

सनराइजर्स की डेथओवरों में तेजी से रन बनाने की उम्मीदों को तब करारा क्षटका लगा जब दीपक हुड्डा (3) और युवराज तीन गेंद के अंदर पवेलियन लौटे। जोर्डन की गेंद पर वह सही टाइमिंग से शाट नहीं लगा पाये और एक्स्ट्रा कवर में वाटसन ने आगे गोता लगाकर कैच कर दिया। युवराज ने अपनी पारी में चार चौके और दो छक्के लगाए।
 
आखिरी ओवरों में रन बनाने का जिम्मा कटिंग ने बखूबी संभाला क्योंकि नमन ओझा (7) और बिपुल शर्मा (5) अपने तेवर दिखाने से पहले पवेलियन लौट गए। कटिंग ने वाटसन पर मिडविकेट पर खूबसूरत छक्का और फिर चौका लगाया लेकिन कोहली ने पारी का आखिरी ओवर फिर से इसी आलराउंडर को सौंप दिया। कटिंग ने अपने इस ऑस्ट्रेलियाई साथी पर कोई रहम नहीं दिखाया। पहली गेंद चार तो अगली दो गेंद छक्के के लिए गई। इनमें से पहला छक्का तो 117 मीटर लंबा था जो स्टेडियम के बाहर चला गया। आखिरी गेंद भी कटिंग ने छक्का जड़ा। वाटसन ने इस तरह से चार ओवर में 61 रन लुटाए।

वीडियो

More News